रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनेगा भारत, अब देश में ही बनाए जाएंगे रक्षा उपकरण

August 10, 2020 | samvaad365

कोरोना काल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आत्मनिर्भर भारत का आह्वान किया तो इस मुहिम में सरकार कई तरह से जुट भी गई है। इसी कड़ी में अब रक्षा क्षेत्र में देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए भी कमर कस ली गई है। रक्षा उपकरणों में अभी तक भारत काफी हद से दूसरे देशों पर निर्भर है, लेकिन अब भारत सरकार ने इस क्षेत्र में भी आत्मनिर्भर बनने के लिए 101 रक्षा उपकरणों के विदेश आयात पर रोक लगा दी है। यानी कि भारत अब इन रक्षा उपकरणों को विदेश से नहीं खरीदेगा। इनपर रोक साल 2024 तक लगाई गई है।

भारतीय रक्षा क्षेत्र यानि थल सेना, वायु सेना और नौसेना पर इसका कोई असर न पड़े इसलिए सभी से विचार विमर्श करने के बाद ही ये फैसला लिया गया है। इस फैसले से भारत अब अपने रक्षा क्षेत्र की क्षमताओं में इजाफा करेगा इस मुहिम के तहत अब अगले 6 से 7 सालों में भारतीय घरेलू इंडस्ट्री को ही करीब 4 लाख करोड़ के कांट्रैक्ट दिए जाएंगे। जिसमें अनुमानित 1 लाख 30 हजार के उपकरण थल और वायु सेना के लिए बनेंगे और 1 लाख 40 जार करोड़ के उपबंध नौसेना के लिए होंगे।

यानी कि अब छोटे से लेकर कई बड़े बड़े हथियार और अन्य रक्षा सामाग्री भी भारत में ही बनेगी। इनमें हल्के उपकरण आर्टिलरी गन, असाॅल्ट राइफ से लेकर लड़ाकू जलपोत, रडार हल्के मालवाहक विमान और कई अन्य वस्तुएं शामिल हैं।

यह खबर भी पढ़ें-हापुड़: अंतर्राज्यीय वाहन चोर गिरफ्तार, चोरों के पास से मिली 6 कार और 6 बाइक

संवाद365/डेस्क

529410cookie-checkरक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनेगा भारत, अब देश में ही बनाए जाएंगे रक्षा उपकरण
52941

You may also like