कौशांबी: फर्जी डिग्री के सहारे नौकरी पाने का खुलासा… बीएड की फर्जी डिग्री लगाकार पाई थी शिक्षक की नौकरी

July 1, 2020 | samvaad365

कौशांबी: यूपी के कौशांबी के शिक्षा विभाग में फर्जी डिग्री के सहारे नौकरी हासिल करने का सनसनीखेज खुलासा हुआ। यहां दो महिला शिक्षिका समेत कुल तीन शिक्षकों ने बीएड की फर्जी डिग्री के सहारे नौकरी हासिल की थी। एसआईटी की जांच में खुलासा होने के बाद तीनों शिक्षकों को बर्खास्त कर एफआईआर दर्ज कराई गई है। मामले में बीएसए राजकुमार पंडित ने बताया कि प्रदेश स्तरीय जांच एसआईटी ने जिले में कुल 10 फर्जी शिक्षकों को तलाशा था। इनमें से 5 फर्जी मार्कशीट वाले शिक्षक हैं तो 5 ऐसे शिक्षक हैं, जिन्होंने कम नंबर को बढ़वा कर पास की मार्कशीट हासिल की थी। अभी भी कुल 7 शिक्षकों के खिलाफ जांच चल रही है। जल्द ही इन लोगों के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

कौशांबी बेसिक शिक्षा विभाग में वर्ष 2010 में 10 शिक्षकों ने डॉ. भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय आगरा से बीएड की फर्जी डिग्री लगाकर नौकरी हासिल की थी। जनपद के अलावा पूरे प्रदेश में फर्जी शिक्षकों की भरमार हुई तो इसकी जांच एसआईटी को सौंप दी गई। एसआईटी ने गहन तरीके से जांच शुरू की तो कौशांबी में 10 फर्जी शिक्षक मिले। इनमें 5 शिक्षकों की मार्कशीट फर्जी लगी और पांच ऐसे भी शिक्षक मिले जिन लोगों ने जुगाड़ के माध्यम से अपने नंबर बढवा कर पास मार्कशीट लगाई थी।

जांच के बाद वर्ष 2019 में एसआईटी की रिपोर्ट आई तो हड़कंप मच गया। इन सभी 10 शिक्षकों को अगस्त 2019 में बर्खास्त कर दिया गया। लेकिन इन लोगों ने कोर्ट की शरण ली। कोर्ट ने इन लोगों को स्थगन आदेश दिया। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट में इसकी सुनवाई की गई। हालांकि सुप्रीम कोर्ट से इन शिक्षकों को निराशा हाथ लगी और रिपोर्ट आने पर इन लोगों बर्खास्त कर दिया गया। बर्खास्त शिक्षकों के खिलाफ जिले के अलग-अलग थानों में एफआईआर दर्ज कराई गई है।

यह खबर भी पढ़ें-रुद्रप्रयाग: क्या है रेतस कुंड का रहस्य? कुंड में महादेव के जाप से उठते हैं बुलबुले…!

संवाद365/नितिन अग्रहरि

513440cookie-checkकौशांबी: फर्जी डिग्री के सहारे नौकरी पाने का खुलासा… बीएड की फर्जी डिग्री लगाकार पाई थी शिक्षक की नौकरी
51344

You may also like