दिल्ली में हुआ डॉ रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ की पुस्तक का विमोचन

October 10, 2018 | samvaad365

नई दिल्ली में सुप्रसिद्ध साहित्यकार पूर्व मुख्यमंत्री उत्तराखण्ड एंव हरिद्वार सांसद डॉ रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ की पुस्तक ‘धरती का स्वर्ग उत्तराखण्ड भाग 3 प्रकृति का अलौकिक सौन्दर्य’ का विमोचन किया गया। इस मौके पर केन्द्रीय पर्यटन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री के. जे. अल्फोंस ने कहा कि डॉ रमेश पोखरियाल निशंक एक प्रसिद्ध कवि, लेखक और दार्शनिक व्यक्ति हैं। कवि और लेखक हमेशा संवेदनशील और अच्छे इंसान होते हैं। एक सफल राजनीतिज्ञ के साथ-साथ डॉ निशंक साहित्य में भी सफलता और प्रसिद्धि पा चुके हैं। उनकी पुस्तक का विमोचन करते हुये मुझे गर्व का अनुभव हो रहा है।

पुस्तक का विमोचन करते हुए पर्यटन राज्यमंत्री ने कहा कि डॉ निशंक एक विद्वान साहित्यकार के साथ एक संवेदनशील व्यक्ति भी हैं। जिन्होंने साहित्य की हर विधा में रचनायें की हैं। वे राष्ट्र निधि है, मुझे उनके कृतित्व पर गर्व है। साथ ही अल्फोंस ने कहा कि वे बद्रीनाथ-केदारनाथ सहित उत्तराखण्ड के अनेकों स्थानों का भ्रमण कर चुके हैं उत्तराखण्ड सचमुच में धरती पर स्वर्ग के समान है। इसके सौन्दर्य पर लिखी डॉ निशंक की यह पुस्तक विश्व मानव को उत्तराखण्ड की खूबसूती के दर्शन करायेगी। इसलिए इसका अनुवाद अंग्रेजी के साथ-साथ अन्य भाषाओं में भी होना चाहिये। पुस्तक के लेखक डॉ रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि उत्तराखण्ड के सौन्दर्य को विश्व पटल पर लाने के उद्देश्य से उनकी धरती का स्वर्ग उत्तराखण्ड सीरीज की यह तीसरी पुस्तक है। इसी तरह यह श्रृंखला जारी रहेगी। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुये सुप्रसिद्ध साहित्यकार, केन्द्रीय साहित्य अकादमी के पूर्व सदस्य डॉ योगेन्द्रनाथ शर्मा अरुण ने कहा कि डॉ निशंक सरस्वती के वरदपुत्र हैं। अब तक साठ से अधिक पुस्तकों की रचना कर चुके हैं।

पुस्तक के प्रकाशक विनसर पब्लिशिंग कम्पनी के निदेशक कीर्ति नवानी ने समस्त अतिथियों का आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम में साहित्यकार प्रो0 ज्योति पाण्डेय, प्रो0 मसरुर वेग, प्रो0 हेमलता, डॉ सर्वेश उनियाल, डॉ प्रभाकर बडोनी, रमेश कांडपाल, ले0 कर्नल चन्द्रसिंह पटवाल, समाज सेवी अनिल पंत, सचिदानन्द शर्मा, रणविजय सिंह, बेचैन कण्डियाल के अतिरिक्त सुप्रसिद्ध कत्थक नृत्यांगना तथा फिल्म निर्माता एंव डॉ निशंक की बेटी अरुषी निशंक सहित अनेक गणमान्य लोग उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन डॉ विवेक गौतम ने किया।

दिल्ली, दीप सिलोड़ी

21905

You may also like