जिसे समझा था अपना वो निकला पराया, मेयर के साथ धोखा,जानें पूरी ख़बर

December 5, 2018 | samvaad365

बीते रविवार को नगर निगम में राज्य के सभी नवनिर्वाचित पार्षद व मेयर सपथ ग्रहण हेतु पहुंचे थे लेकिन इस बीच ऐसा कुछ हुआ जिसकी किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी जी हां शहर के एक कारोबारी की ओर से बीते रविवार को मेयर अनिता ममगाईं के शपथ ग्रहण समारोह में नगर निगम को दान दी गई जमीन उस कारोबारी की थी ही नहीं। मामले की पोल तब खुली जब मंगलवार को मेयर लाव लश्कर के साथ लक्कड़घाट स्थित जमीन का मौका मुआयना करने पहुंचीं। मेयर के मुआयने की भनक लगते ही जमीन का असल मालिक भी मौके पर पहुंच गया और पूरे मामले का खुलासा हो गया।

जानकारी के अनुसार रविवार को आयोजित मेयर के सम्मान ग्रहण समारोह में कारोबारी डॉ. आरके गुप्ता भी मौजूद थे। इसी दौरान उन्होंने निगम को अपनी दो बीघा जमीन दान देने की घोषणा कर डाली। इससे उत्साहित मेयर ने भी आनन फानन में मौका मुुआयना करने की योजना बनाई। मंगलवार को मेयर अनिता ममगाईं, दानदाता के प्रतिनिधि के तौर पर अजय गर्ग सहित तमाम लोग श्यामपुर स्थित लक्कड़घाट पहुंचे। इस दौरान जमीन का रकबा दो बीघा न होकर महज एक बीघा ही पाया गया। दूसरी दिलचस्प घटना ये हुई कि जिस जमीन को दान देने का दावा किया जा रहा था वह डॉ. आरके गुप्ता की है नहीं। मौके पर ही जमीन के मालिकाना हक को लेकर बहस छिड़ गई।

मेयर अनिता ममगाईं ने बताया कि वह दान में मिली जमीन का मुआयना करने गए थे। पहले ही डॉ. आरके गुप्ता को कह दिया था कि जमीन के दस्तावेज उपलब्ध कराइए। उन्होंने अजय गर्ग को जमीन का मौका मुआयना करवाने के लिए भेजा था। भूमि के कागजात मांगे तो वे दिखा नहीं पाए। योजना है कि यदि जमीन मिल जाती है तो सामुदायिक केंद्र बनाया जाएगा। फिलहाल हम अपने स्तर पर भी पड़ताल करवाएंगे कि राजस्व अभिलेखों में उक्त जमीन किसकी है।

 

यह ख़बर भी पढ़ें- ………तो हरक सिंह गिरा देते सरकार

यह ख़बर भी पढ़े- विधानसभा शीतकालीन सत्र का दूसरा दिन,जानें आज क्या कुछ होगा ख़ास

 

देहरादून/संध्या सेमवाल

26698

You may also like