दून अस्पताल के मरीज़ अब ले पाएंगे सरकार की इस योजना का आयुष्मान

December 3, 2018 | samvaad365

दून अस्पताल में मरीजों को आयुष्मान योजना का लाभ सोमवार तीन दिसंबर से मिलने लगेगा। इसे लेकर तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। वरिष्ठ बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. एनएस खत्री को अस्पताल में योजना का नोडल अधिकारी बनाया गया है। चिकित्सा अधीक्षक डॉ.केके टम्टा ने बताया, उपकरणों के लिए पहले ही टेंडर किए जा चुके हैं। दवाई देने की व्यवस्था भी कर ली गई है। उन्होंने बताया कि अस्पताल में अब तक 110 आयुष्मान के लाभार्थी पंजीकृत हैं। नोडल अधिकारी डॉ. एनएस खत्री ने बताया कि लाभार्थियों के सत्यापन और उनकी अस्पताल में आमद दर्ज कराने के लिए बॉयोमीट्रिक मशीन मंगाई जा रही है।

जल्द ही योजना में लाभार्थियों की संख्या में इजाफा होगा। लाभार्थियों की जानकारी के लिए अस्पताल में साइन बोर्ड लगा दिए गए हैं। वहीं, पंजीकरण के लिए दो आयुष्मान मित्रों की भी तैनाती की गई है। बता दें कि हाल में स्वास्थ्य सचिव ने समीक्षा बैठक में योजना की सुस्त रफ्तार पर नाराजगी जताई थी। उन्होंने कहा था कि 25 दिसंबर से प्रदेश में सरकारी कर्मचारी भी योजना के दायरे में आ जाएंगे। इसे देखते हुए सभी जिलों में पर्याप्त निजी अस्पतालों को सूचीबद्ध किया जाए। जबकि तमाम सरकारी अस्पताल व मेडिकल कॉलेज में भी अविलम्ब योजना शुरू की जाए।

एक्स-सर्विसमैन कांट्रिब्यूटरी हेल्थ स्कीम (ईसीएचएस) के तहत पूर्व सैनिक अब एलोपैथिक के अलावा अन्य पद्धति से भी उपचार करा पाएंगे। वह आयुष के जरिये भी स्वास्थ्य लाभ ले सकते हैं।  नई व्यवस्था के तहत पूर्व सैनिक आयुर्वेद, योग, यूनानी, सिद्ध, होम्योपैथी व प्राकृतिक चिकित्सा सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं। यह सुविधा न केवल आइपीडी बल्कि ओपीडी में भी मिलेगी। ईसीएचएस की केंद्रीय इकाई ने इस संबंध में राज्यों को निर्देश जारी कर दिए हैं। जिसके तहत आयुर्वेद अस्पतालों या सरकार द्वारा संचालित अन्य स्वास्थ्य इकाइयों में उपचार की अनुमति होगी। जिसके लिए पहले ईसीएचएस अधिकारियों से मंजूरी लेनी होगी। यह अनुमति मरीज के एलोपैथिक से आयुष या आयुष से एलोपैथिक में शिफ्ट होने पर लेनी होगी। पर इमरजेंसी मामलों में इसकी छूट रहेगी।

ईसीएचएस लाभार्थियों को अब मेडिकल सर्टिफिकेट के लिए भी दिक्कत नहीं उठानी होगी। पॉलीक्लीनिक पर तैनात चिकित्साधिकारी उन्हें मेडिकल प्रमाण पत्र जारी कर पाएंगे। वह बीमारी व फिटनेस सहित ड्राइविंग लाइसेंस आदि के लिए आवश्यक प्रमाण पत्र भी जारी कर सकते हैं। अभी तक सिविल अस्पताल से यह प्रमाण पत्र बनवाने पड़ते थे।

यह ख़बर भी पढ़े-

देवभूमि में इस जगह बना प्राकृतिक चिकित्सा में कीर्तिमान

यह ख़बर भी पढ़े- शहीद जवान लांस नायक सूरज सिंह का पार्थिव शरीर पहुंचा अल्मोड़ा, आर्मी ग्राउंड में दी गई सलामी

देहरादून/संध्या सेमवाल

26427

You may also like