चमोली में बंदरों और लंगूरों के बढ़ते आतंक की वजह से गांव में लगा पिंजरा

December 4, 2018 | samvaad365

जंगली जानवरों के बढ़ते आतंक से निपटने के लिए ग्रामीणों की शिकायत के बाद वन विभाग के कर्मचारियों ने गिरसा गांव में पिंजरा लगाया । पिंजरे को लेकर गांव में पहुंची वन विभाग की टीम को महिलाओं ने खूब खरी खोटी सुनायी। लोगों का कहना है कि  बंदरों के बाद अब गांव में लंगूरों के आतंक से लोगों का घरों से निकलना मुश्किल हो रखा है। जिसके बाद वन विभाग के लोगों के बाद जंगली जानवरों को पकडनें के लिए गांव में दो पिंजरे लगाये गये।

पोखरी विकास खण्ड के जिलासू तहसील के अन्तर्गत गिरसा गांव के लोग जंगली जानवरों के आतंक से डरे और सहमें हुए है। ग्रामीणों का कहना है कि पहले तो बंदरों का आतंक था ही मगर अब लंगूर भी लोगों पर झपटने आ रहे हैं। जिससे लोगों का घरों से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है। गांव वालों की शिकायत के बाद गैर जिम्मेदार विभाग गांव में जैसे ही पहुंचा तो महिलाओं ने विभागीय कर्मचारियों को खूब खरी खोटी सुनायी। नाराज महिलाओं ने बताया कि लंगूर के आतंक से महिलायें घरों से बाहर नहीं निकल पा रही है। बंदर खेतों को नुकसान पहुंचा रहे हैं।

लिहाजा लोगों का विश्वास सरकारों और विभागों से उठता जा रहा है। बाद में वन विभाग के रेंजर द्वारा समझाने के बाद लोग मानें और विभागीय लोगो ने गांव में बन्दरो को पकडनें के लिए दो पिंजरे लगाये। मौके पर पहुंचें वन विभाग के रेंजर ने बताया कि इन दिनों जंगली जानवरों का आतंक पूरे क्षेत्र में फैला हुआ है। इसकी रोकथाम के लिए जगह जगह पिंजरें लगाये जा रहे हैं। ताकि लोगों को जंगली जानवरों के आतंक से वन महकमा निजात दिला सके।

यह खबर भी पढ़ें-22 घंटे में फिल्म ‘SIMMBA’ के ट्रेलर ने बनाया ये नया रिकार्ड

यह खबर भी पढ़ें- उत्तरकाशी में महसूस हुए भूकंप के झटके

चमोली/पुष्कर नेगी

26576

You may also like