देवभूमि में जारी है फिल्म केदारनाथ का विरोध, फिल्म को बैन करने की मांग

December 7, 2018 | samvaad365

केदारनाथ त्रासदी पर आधारित फिल्म केदारनाथ की रिलीज को लेकर विरोध के स्वर लगातार उठ रहे हैं। जहां फिल्म को लेकर उत्तराखंड में काफी उत्साह था, वहीं इससे पहले जब फिल्म का करीब एक मिनट का टीजर और पोस्टर रिलीज हुआ तो इसका विरोध भी शुरू हो गया।

 

दरसअल उसमें दर्शाए गए बोल्ड सीन को लेकर तीर्थपुरोहित और स्थानीय लोग भड़क उठे, तो भाजपा नेता भी इस फ़िल्म के विरोध में उतर गए और उन्होंने इसे लव जिहाद को बढ़ावा देने वाली फिल्म तक कह दिया और इस फिल्म पर बैन की मांग की। उसके कुछ समय बाद हिन्दू युवा वाहनी ने भी इस फ़िल्म को उत्तराखंड में न  चलने की धमकी तक दे डाली।

कई हिन्दू संगठन इस फ़िल्म के रिलीज से पहले सिनेमाघरों में जाकर इसके विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं और इतना ही नहीं विरोधी दलों ने फ़िल्म के पोस्टर तक फाड़ डाले,काफी हंगामे करने के बाद उन्होंने  सिनेमाघरों के मालिकों को इस फ़िल्म को न लगाने को कहा और साथ ही कहा कि अगर कोई सिनेमाघर इस फ़िल्म को चलाएगा तो किसी भी घटना का जिम्मेदार वो स्वंय होंगे। वहीं केदारनाथ फिल्म पर लगातार की जा रही आपत्तियों की समीक्षा करने के लिए पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज की अध्यक्षता में समिति गठित की गई है। सचिव गृह नितेश झा, सचिव सूचना दिलीप जावलकर व डीजीपी अनिल रतूङी समिति के सदस्य हैं। समिति केदारनाथ फिल्म को लेकर की जा रही आपत्तियों के संदर्भ में फिल्म का परीक्षण करेगी और अपनी रिपोर्ट देगी। इस रिपोर्ट के आधार पर राज्य सरकार द्वारा उत्तराखंड में इस फिल्म के प्रदर्शन के संबंध में समुचित निर्णय लिया जाएगा।

यह खबर भी पढ़ें-दून अस्पताल से गायब हुए संत गोपालदास, गंगा रक्षा को लेकर कर रहे थे अनशन

यह खबर भी पढ़ें-रेल प्रबंधक दिनेश सिंह ने किया खटीमा रेलवे स्टेशन का निरीक्षण

देहरादून/अमित रतूड़ी

26833

You may also like