जानिए किस लिए हुई उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय के पूर्व कुलसचिव मृत्युंजय मिश्रा की गिरफ्तारी

December 3, 2018 | samvaad365

उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय के पूर्व कुलसचिव मृत्युंजय मिश्रा को वित्तीय अनियमितताओं के चलते विजिलेंस ने गिरफ्तार कर लिया है। मृत्युंजय मिश्रा के खिलाफ विजिलेंस ने कुछ सप्ताह पहले मुकदमा दर्ज किया था, आज उन्हें देहरादून के इसी रोड से शाम बजे गिरफ्तार कर लिया गया।मृत्युंजय मिश्रा के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप है कुछ समय पहले उनका स्टिंग ऑपरेशन में भी नाम आया था, कुछ दिनों पहले आयुर्वेद विश्वविद्यालय के कुलपति ने भी वित्तीय अनियमितताओं के मामले में मृत्युंजय मिश्रा के खिलाफ जांच करने के लिए सेवानिवृत्त जस्टिस बीसी कांडपाल एकल सदस्यीय कमेटी बनाई थी जिसकी जाँच बाद में बंद कर दी गयी थी।

विजिलेंस की जांच के बाद मिश्रा के खिलाफ भ्रष्टाचार और जालसाजी का मुकदमा दर्ज किया गया था। इसी के चलते आज उनको इंदर रोड से विजिलेंस की टीम ने किया गिरफ्तार कर लिया।विजलेंस ने उन पर 60 लाख से ज्यादा की गड़बड़ी की पुष्टि की है। कई फर्जी फर्म, खातों में कैश ट्रांसफर जैसे कई मामलों में उनकी संलिप्तता पायी गयी है विजिलेंस की टीम अभी मिश्रा से पूछताछ कर रही है साथ ही मिश्रा के कई ठिकानों पर विजिलेंस की छापेमारी जारी है। विजिलेंस के निदेशक एडीजी राम सिंह मीना ने मिश्रा की गिरफ्तारी की पुष्टि की है,और कहा है कि इस मामले में जल्द खुलासा किया जाएगा।

देहरादून/ ब्यूरो रिपोर्ट

26560

You may also like