चमोली में पांडव लीला का आयोजन, पांडव लीला देखने दूर-दराज से पहुंच रहे हैं लोग

December 6, 2018 | samvaad365

जहां एक ओर पहाड़ों में रामलीला का सीजन समाप्त हो गया है वहीं दूसरी ओर देवभूमि उत्तराखंड के चमोली जनपद के जोशीमठ विकासखंड में इन दिनों पांडव लीला का आयोजन किया जा रहा है।

पांडव लीला को देखने के लिए दूर दूर से लोग पहुंच रहे हैं जोशीमठ के सलुण  डूंगरा और रवि ग्राम गांव में ढोल की 18 तालों पर पांडव नृत्य कर रहे हैं मान्यता है कि क्षेत्र और गांव की खुशहाली के लिए हर 2 साल में पांड़व  लीला का आयोजन किया जाता है। जिसमें अर्जुन ,भीम, युधिष्ठिर, माता कुंती, द्रोपति, नकुल सहदेव भगवान श्री कृष्ण,  बजरंगबली मुख्य पात्र होते हैं। माना जाता है कि पांडव  चमोली जिले के इसी गांव से स्वर्ग के लिए निकले थे।

चमोली जिले में पांडव नृत्य को देखने के लिए यहां के गावों में दूर दूर से लोग पहुंचते हैं। इस पांडव नृत्य में सभी पात्रों का अभिनय क्षेत्र के लोग करते हैं। यह पांडव नृत्य आस्था का प्रतीक माना जाता है। इसलिए हर वर्ष इसका आयोजन किया जाता है। यह मान्यता है इस आयोजन से क्षेत्र में खुशहाली आती हैं। इस दौरान ग्रामीण बड़े हर्षोल्लास के साथ पांडव लीला का आयोजन करते हैं।

यह खबर भी पढ़ें-सैलानियों को लुभाने के लिए मसूरी में होगा विंटर लाईन कार्निवल का आयोजन

यह खबर भी पढ़ें-विधानसभा के शीतकालीन सत्र के दौरान जारी है बेरोजगार युवाओं का विरोध प्रदर्शन

चमोली/पुष्कर नेगी

26742

You may also like