सैन्य सम्मान के साथ हुई उत्तराखंड के लाल की अंत्येष्टि, लोगों ने किया सलाम

December 3, 2018 | samvaad365

जम्मू कश्मीर के राजौरी में माइन ब्लास्ट की चपेट में आने से शहीद हुए अल्मोड़ा जनपद के लांस नायक सूरज सिंह के पार्थिव शरीर को सोमवार को सेना के विशेष हेलीकॉप्टर में अल्मोड़ा लाया गया। यहां आर्मी ग्राउंड में उन्हें सलामी देने के लिए केंद्रीय कपड़ा मंत्री अजय टम्टा, राज्य सभा सांसद प्रदीप टम्टा, पूर्व दर्जा प्राप्त मंत्री बिट्टू कर्नाटक, जिलाधिकारी नितिन भदौरिया, एसडीएम विवेक रॉय व आर्मी अफसर सहित प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे, और सैन्य सम्मान के साथ उनको श्रद्वाजली दी गयी। जिसके बाद यहां से उनके पार्थिव शरीर को सेना के वाहन से उनके मूल गांव पलड़ीगूंठ भनौली भेजा गया। जहां सैन्य सम्मान के साथ उनकी अंत्येष्टि की जाएगी।

शहीद हुए सूरज अपनी बहन को दुल्हन के रूप में सजा हुआ देखना चाहते थे। लेकिन उससे पहले ही वह शहीद हो गए। सात दिन पहले जब वह अपनी छुट्टी पूरी कर डूयूटी के लिए रवाना हुए तो अपनी दादी, माता पिता के पांव छू कर जल्द ही घर आने की बात कह कर अपनी बहन की शादी धूम धाम से करने का वादा भी कर गए। सूरज को अपनी बहन की शादी की बहुत ही चिंता रहती थी। शहीद सूरज की बहन की शादी तय हो चुकी है और अगले वर्ष मई में उसकी शादी होनी थी। इस बार आए छुट्टी में शहीद सूरज ने अपनी बहन की शादी के लिए आभूषण भी तैयार कर लिए थे, लेकिन शायद भगवान को कुछ और ही मंजूर था। अपने अरमानों को पूरा किए बगैर ही सूरज इस दुनिया को अलविदा कह गया।

वहीं हैलीपेड पहुंचे सांसद अजय टम्टा ने कहा कि देश की सुरक्षा के लिए अपने प्राणों की आहूती देने वाले सूरज सिंह भाकुनी ने साहस और देश की सैन्य शक्ति का प्रमाण दिया है। और भारत माता की रक्षा के लिए सूरज ने अपने प्राणों की आहूती दी है। वहीं राज्य सभा सांसद प्रदीप टम्टा का कहना है कि उत्तराखण्ड का कोई ना कोई जवान देश की रक्षा के लिए शहीद हो रहा है। इन परिस्थिति को देखते हुए सरकार को कदम उठाने चाहिए। सत्ता में आने से पहले केन्द्र की मोदी सरकार कहती थी कि देश की सीमा को सुरक्षित किया जाएगा। देश अपना दायित्व तो पूरा कर रहा है लेकिन केन्द्र में बैठी सरकार को उन परिस्थितियों को दूर करना चाहिए जिससे कि देश हित में अपने प्राणों की आहूति देने वाले शहीदों की शहादत बेकार ना जाए।

जिलाधिकारी नितिन भदौरिया ने कहा कि हमारे अल्मोडा के लिए ये बहुत ही दुःख और गौरव की बात है कि हमारे उत्तराखण्ड के जवानों ने देश रक्षा के लिए वह चौबीसों घण्टे तत्पर है जिस कारण आज हम लोग सुरक्षित है। उन्होंने कहा कि शहीद सूरज के परिवार  के लिए प्रशासन की ओर से जो कुछ भी बनेगा वह पूरा किया जाएगा।

यह खबर भी पढ़ें-टिहरी जनपद के सुमाड़ी गांव में आजादी के 71 साल बाद पहुंची बिजली

यह खबर भी पढ़ें- टनकपुर में शपथ ग्रहण समारोह का हुआ आयोजन

अल्मोड़ा/अमित उप्रेती

26429

You may also like