जब छोटे भाई को अपने ही सामने मरते देखता रह गया बड़ा भाई,देखने वालों की छलक गई आँखें

December 1, 2018 | samvaad365

ख़बर कुछ ऐसी ही कि सुनने वालों का दिल भी पसीज जाए पिथौरागढ़ के एशियन स्कूल में पढ़ने वाले कासिम के सामने ही उसके छोटा भाई दारेन को मौत कुछ इस तरह खींच ले गई के मासूम कासिम अभी भी कुछ समझने की स्थिति में नहीं है वह अब तक सदमे में है। बस की चपेट में आए दारेन को बचाने के लिए उसने अपनी जान जोखिम में डालकर भरसक कोशिश की। मां के साथ वह घायल भाई को लेकर अस्पताल भी गया, लेकिन होनी को कुछ और ही मंजूर था,मौत के सामने मासूम हार गया। अली खान सिल्थाम में ठेला लगाकर मछलियां बेचने का काम करते हैं। बेटे का शव देख जिला अस्पताल में अली खान बिलख उठे तो कासिम एक स्थान पर गुमसुम बैठा था।

कासिम ने बताया कि दारेन जब टायर की चपेट में आया तो उसने जोर से अंकल-अंकल चिल्लाया। इस पर चालक ने उसे डपट दिया। इसके बाद पिछले टायर से दारेन बुरी तरह कुचल गया। कासिम ने बताया कि उसने भाई को बचाने के लिए टायरों के बीच हाथ डालकर उसे निकालने की कोशिश की। इसमें वह भी बस की चपेट में आने से बचा।

कासिम ने रोते हुए बताया कि टायर दारेन की छाती पर चढ़ गया। इतने पर भी विद्यालय प्रबंधन या अन्य कोई स्टाफ मौके पर नहीं आया। कासिम की बात सुनकर अस्पताल में मौजूद लोगों में आक्रोश फैल गया। उनका कहना था कि स्कूल बसों के लिए कोई मानक नहीं है।

नाराज लोगों ने स्कूल प्रबंधन और चालक के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए प्रशासन पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया। उनका आरोप था कि निजी स्कूलों में मानकों का पालन नहीं किया जाता है। बावजूद इसके प्रशासन हमेशा सोया रहता है। एसपी आरसी राजगुरु और सीओ शेखर सुयाल ने हरसंभव कार्रवाई का भरोसा दिलाया।

यह ख़बर भी पढ़े- पिथौरागढ़ में आज भी जीवित है मध्ययुगीन मानसिकता, महावारी में छात्राओं के स्कूल जाने पर है रोक

यह ख़बर भी पढ़े- आखिर कब पूरा होगा पहाड़वासियों का सपना, कब गैरसैंण को मिलेगा राजधानी का दर्जा

पिथौरागढ़/संध्या सेमवाल

26281

You may also like