उच्च हिमालयी इलाकों में सक्रिय हुए वन्यजीव तस्कर

December 7, 2018 | samvaad365

जाड़ों का मौसम आते ही जिले के उच्च हिमालय इलाकों में वन्यजीव तस्कर एक बार फिर सक्रिय हो गये है। उच्च हिमालयी इलाकों को वन्य जीव तस्कर आग के हवाले करने में जुटे है। जिस कारण हिमालय की बहुमूल्य सम्पदा तो खाक हो ही रही है साथ ही दुर्लभ वन्य जीवों पर भी खतरा मंडराने लगा है। आलम ये है कि पूरा हिमालयी क्षेत्र इन दिनों आग से निकलती धूंध से पटा हुआ है।

दरअसल जाड़ों के मौसम में हिमालय में रहने वाले दुर्लभ वन्य जीव निचले इलाकों की ओर आते हैं। वन्य जीव तस्करों को इसी मौके का इंतजार रहता है ताकि वो दुर्लभ वन्य जीवों को अपना निशाना बना सकें। गौरतलब है कि उच्च हिमालयी इलाकों में रहने वाले स्नो लैपर्ड, कस्तूरी मृग, स्नो बियर इत्यादि निचले इलाकों में आते है। जहां तस्करों द्वारा घात लगाकर इन जानवरों को आग के हवाले किया जा रहा है। वहीं वन महकमा सिर्फ दावे करने तक ही सीमित है।

यह खबर भी पढ़ें-देवभूमि में इसलिए किया जाता है पाण्डव नृत्य का आयोजन…

यह खबर भी पढ़ें-रुद्रप्रयाग में जल संस्थान खुल्लम खुला कर रहा है ग्रामीणों का शोषण

पिथौरागढ़/मनोज चंद

26868

You may also like